Books

‘Bebak Baat’ Book was released by M. Venkaiya Naidu on 9th August – Bebaak Baat

Welcome to our website Jankarihub today we will discuss a newly released book. This book name is ‘Bebak Baat’  M. Vaikaiyanaydu has launched Bebaak Baat. He is the Voice president of India.

Most Important Book for Army Public school PGT/TGT/PRT

This is an important book.  Vijay Goel has written this book. As we well know that He is the best and very popular Politician. 

Buy Now>>>

Important Topics about Bebaak Baat Book

In this book, Mr. Goyal wants to show the problems of India that is a very prominent topic to irradiate forever. Today I would tell about this book in detail what topics have been included in this Book. As Given Below. 

Bebaak Book should be read by all the people of India. Mr. Goyal has described this further topics Government, Education, Culture, Music, Custom and Tendency, Technology, Sports, Heritage, along with Tourism Field. He narrated properly about the above topics in detail. 

He had given the many statements related to these topics to indicate and resolve from our country as soon as possible. Basically he noticed and attracted to young generation People to involve in it. 

Main Theme of this book is to stand against corruption and how to uproot this permanently from India. And Each Indian citizen should be capable to speak of their problem. 

“अपनी कलम के माध्यम से प्रशासन, शिक्षा, कला, संगीत, संस्कृति, रीति-रिवाज, तकनीकी, खेल, हैरिटेज और पर्यटन जैसे विभिन्न विषयों पर विजय गोयल ने नई नजर डाली है। उन्हेंने खुद को कभी राजनीति के दायरों में समेटकर नहीं रखा।

नवभारत टाइम्स, दैनिक जागरण, हिंदुस्तान, पंजाब केसरी, जनसत्ता, राष्ट्रीय सहारा सहित प्रमुख राष्ट्रीय समाचार-पत्र और पत्रिकाओं में प्रकाशित अपने लेखों के माध्यम से उन्होंने देश के करोड़ों पाठकों के बीच उन विषयों को उठाया है, जो अकसर आम पाठक के मन में उमड़ते-घुमड़ते रहते हैं, लेकिन उन्हें शब्द नहीं मिलते।

इस पुस्तक में संगृहीत श्री गोयल के चुनिंदा लेख ऐसे ही विचारों और भावनाओं की बेबाकबयानी हैं। उनकी बेबाकी ही उनके लेखन की खूबी है, लिहाजा यही इस पुस्तक का शीर्षक है—‘बेबाक बात’। मिसाल के तौर पर पुस्तक में शामिल ‘तो फिर सेंसर बोर्ड की जरूरत ही क्या?’ ऐसा ही लेख है। जब फिल्म ‘वीरे दी वेडिंग’ की भाषा को लेकर हर तरफ चर्चा चल रही थी,

तब किसी ने इस विषय पर लिखने का साहस नहीं किया, लेकिन विजय गोयल ने इस पर बेबाक लिखा। उनका लेख ‘नेताओं का दर्द कौन समझेगा’ राजनेताओं के जीवन की अंदरूनी उलझनों, कशमकम और परेशानियों को सामने लाता है।

इस लेख को 400 सांसदों ने एक साथ पढ़ा। प्रसिद्ध पत्रिका बाल भारती में 12 साल की उम्र में उनका लेख ‘मेरी पहली कहानी’ छपा था, जिसमें उन्होंने बताया कि उन्होंने उसे कैसे लिखा। पिछले एक साल में उनके 100 से ज्यादा लेख प्रकाशित हो चुके हैं।

ये लेख समाज में नए सवाल भी पैदा करते हैं और उनके जवाब भी तलाशते हैं। लेखक का मानना है कि वाजिब कारण होने पर सवाल खड़े होने चाहिए, तभी जवाब निकलते हैं और यही सिलसिला जीवन और समाज को सही दिशा में ले जाता है।”

Overall Bebaak Book book is the best and very important book. We should read once in the life and this book is available on Amazon. So go for this and buy now. 

If you have liked this book Please share this post with your friends and family.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *